Morning Woke Time

Morning Woke Time
See Rising sun & Addopete Life Source of Energy.

Sunday, 27 January 2013

सार्वजनिक जीवन में सेक्स स्कैण्डल


vfHkO;fDr
lkoZtfud thou esa lsDl Lds.My
^^ vo/kkj.kk] dkj.k vkSj ifjlhek ^^
    
           lsDl  Hkkjrh;  lekt  esa viuh v|ru vo/kkj.kk dks ryk’k jgk gSA jktuhfr es ;g fo"k; vkSj jkspd rFkk laosnu’khy  gks tkrk gS A vkSj mB [kM+k gksrk gS lekt ds fijkfeM ds f’k[kj ij cSBs O;fDr ds fy, loksZPp uSfrd ekunaM LFkkfir djus ds fy, vafre mRrjnkf;Ro dk iz’u \ fdlh O;fDr ds fy, rfud Hkh Hkz"V vkpj.k ugha djuk mlh izdkj vlaHko gS tSls TkhHk ij j[ks ’kgn dk Lokn ugha ysuk A lekt tSls&tSls lH; gksrk x;k] Hkksx&foykl dh izkphu vo/kkj.kk lekt ds uSfrd ca/kuks es tdM+rh xbZ ] vkSj lH; lekt dk pksyk vks<s+ vk/kqfud le; esa blds u,&u, Lo:Ik mHkjsaA fo’o ds lcls ifjiDo iztkra= vesfjdk dh laln dkaxzsl  us lsDl Lds.My esa iwoZ jk"V~zifr fcy fDyaVu ij egkfHk;ksx dks fljs ls [kkfjt djrs gq, bl vo/kkj.kk dks LFkkfir fd;k fd lkoZtfud O;fDr dks dsoy vius dRrZO; fuoZgu es ykijokgh ] Hkz"Vkpkj ;k dkuwu ds mYya?ku ij gh nafMr fd;k tkuk pkfg,] vU;Fkk ugha A vfr laosnu’khy jktuhfrd thou ds ekeys esa  Hkkjrh; lekt ds ifjis{; dks /;ku es j[krs gq, nksgjs ekunaM dk  js[kkadu vkSj lhekadu vko’;d gSA ^Loigpku * ekuo vko’;drkvksa dk pje fcanq gSA ;g O;fDr dks viuh {kerk ]jpukRedrk] ltZu’khyrk vkSj miyfC/k ds ek/;e ls viuh lkeZF; dks igpkuus vkSj vius y{; dks izkIr djus dk lqvolj iznku djrh gSA bl vko’;drk dh iwfrZ O;fDr dks dke rFkk thou esa larqf"V iznku djrh gSA O;Lrrk vkSj larqf"V ds dkj.k rhoz bafnz; vifjfer ÅtkZ dk lap;u gksrk gS A ftldk mRltZu ,d izkd`frd izfdz;k gSA
jktuhfr esa  ;kSu  ’kks"k.k ds  c<+rs vkjksiks dh la[;k ds ihNs dkQh gn rd efgykvks dh mPp egRokdka{kk vkSj lh/ks ^tEi^ djus dh fyIlk Hkh dgha u dgha nsk"kh gSA efgykvksa dks ’kkVZdV u viuk dj viuh esgur ls usr`Ro {kerk fodflr dj vkxs c<+uk pkfg,A Hkkjr dh e;kZfnr laLd`fr bl  y{e.k js[kk dks ikj djus dh btktr ugha nsrh gS vkSj lkoZtfud thou esa lqfprk dks c<+kok nsrh gSA fdlh Hkh cM+s ls cM+ss O;fDr dks bl v{kE; vijk/k ds fy, ekQ ugha fd;k tk ldrk A fQj Hkh ,sls fo"k;kas ij lko/kkuh cjruh pkfg,A ges /;ku j[kuk gksxk fd dgha lkoZtfud thou eas foeq[krk izos’k u djasA vkt Hkh lkoZtfud thou es vusd vuqdj.kh; yksx ekStwn gS ftudh la[;k c<+kus ij tksj nsus dh vko’;drk gSA 

http://aajtak.intoday.in/livetv.php

Thursday, 24 January 2013

स्वच्छ प्रशासन का विकल्प: भावनात्मक प्रतिबद्धता


Lkkef;d fn’kk
LkanHkZ% LoPN iz’kklu
fodYi Hkjkslsean iz’kklu dh HkkoukRed izfrc)rk

C;wjksdzslh ,d tfVy vkSj vusdkFkhZZ rFkk fnypLi ifjgkliw.kZ ’kCn ds :Ik esa  Qzkalhlh dzkafr ls iwoZ O;oLFkkxr ^^cqjkbZ^^ dk Ik;kZ;  cudj mHkjkA rRi’pkr iwjs fo’o esa bldk izpkj izlkj blh :Ik es gqvkA dgk tkus yxk fd C;wjksekfu;k uked chekjh us Qzkal eas dgj <k j[kk gSA bldh vuqHkwfr lekt esa vHkh Hkh eglwl dh tk jgh gS vkSSj ge iw.kZ nks"k eqDr ugha gks ik,A
^^’kkldh; inkf/kdkjh ,slk O;fDr gS tks vPNh iks’kkd /kkj.k fd, gq, izkr%dky ukS cts ls lk<s+ nl cts ds e/; fdlh le; dk;kZy; vkrk gSA mlds dk;kZy; esa vkus dk le; in lksiku O;oLFkk es mldh fLFkfr ,oa osru ds vk/kkj ij fu/kkZfjr fd;k tkrk gSA og ,sls Ik= fy[kus esa viuk le; O;rhr djrk gS tks dze’k% vLi"V gksrs tkrs gS ,oa vuqHkotU; Ik)fr dh iw.kZrk ds QyLo:Ik muesa ekuoh; LoHkko dh ljlrk ‘’kq"d gksrh tkrh gSA 
og izR;sd fu.kZ; dks nwljs ij Vkyus dk iz;Ru djrk gS] ,oa fdlh fu.kZ; ij igqaps fcuk yach&yach fVIi.kh fy[krk jgrk gS] ifjfLFkfr;ks ds cnyus dh vk’kk esa og viuk fu.kZ; LFkfxr djrk jgrk gS ;k izkFkhZ uSjk’; ,oa foyEc ls rax vkdj Lo;a gh vkuk can dj nsrk gSA ;fn fdlh dkj.ko’k ;k vlaHkkfor ifjfLFkfr ds dkj.k mls dksbZ fu.kZ; ysuk vko’;d gks gh tkrk gS rks lacaf/kr Qkby ds u feyus ;k [kks tkus ds dkj.k og vkjke dh lkal ysrk gS] ,oa vius nSfud dk;kZs esa yx tkrk gSA 
og vius mPpkf/kdkfj;ksa ds izfr vkKkdkjh ,oa v/khuLFkksa ds izfr vlfg".kq gksrk gS] vkSj volj iM+us ij ’kssDlih;j ds dFkukuqlkj ^in ds vgadkj* dks Hkh O;Dr djrk gSA vU; lHkh lg;ksfx;ksa dks viuk izfrLi/khZ ekurk gSA turk ds lnL;ksa dks og fxjs gq, pfj= ds ,sls O;fDr ekurk gS ftudh f’kdk;rsa ,oa rdkZs dks vlk/kkj.k lfg".kqrk ds dkj.k gh og lgu dj ikrk gS] vkSj ^vfr mRlkgh ugha * dks ’kkldh; deZpkjh funsZ’kd ds :Ik es ekurs gSA 
nks ?kaVs ds e/;kà Hkkstuksijkar og fofHkUu dk;kZs dh ;kstuk,a cukrk gSA ftuds dkj.k mlds v/khuLFk ikap cts ls iwoZ vius dejks dks ugha NksM+ ldrs ] tcfd og Lo;a blds iwoZ gh mB dj pyk tkrk gSA ?kj tkrs gq, ekXkZ esa og ,fLizu dh fMfc;k ysrk tkrk gS vkSj ?kj igqap dj og cPpksa ij ‘’kss[kh c?kkjdj  ,oa iRuh }kjk  rS;kj Hkkstu esa nks"k fudkydj larq"V gksrk gSA ** ;gh og  lq/kkj  dk rduhfd canq gS ftlesa dlkoV ykdj pqLrh vkSj LQwfrZ ds lapkj dh vko’;drk gSA ;gh og izo`fRr gS ftlus Lora=rk Ik’pkr cg fudyh lkoZtfud {ks= dh osxorh dks futhdj.k dh vksj eqM+us ij foo’k fd;kA
                fdlh Hkh ns’k dk lafo/kku pkgs fdruk gh vPNk D;ksa u gks ]mld ea=hx.k fdrus Hkh ;ksX; gks fcuk n{k iz’kkldksa ds ml ns’k dk ’kklu lQy ugha gks ldrkA yksd lsok ’kklu Ik)fr esa lokZf/kd tkunkj ’kfDr’kkyh rRo gSA iz’kklu ljdkj ds fy, iFk&izn’kZd] fe= vkSj nk’kZfud rhuksa dh Hkwfedk vnk djrk gSA iz’kklu ^ikyus ls ysdj dczxkg* rd ekStwn jgrk gS A iz’kklu lekt esa fLFkjrk LFkkfir djus okyh ’kfDr ds :Ik es dk;Z djrk gSA ;kstukvksa dh lQyrk ds fy, ,d LoPN] dq’ky ,oa fu"Ik{k iz’kklu dk gksuk vR;ar vko’;d gSA iz’kklu gekjs leLr thou vkSj dk;kZs ij vkPNkfnr gks pqdk gSA rFkk gekjh lH;rk dk ewyk/kkj cu x;k gSA yksd lsokvks ds ek/;e ls ljdkj vius y{; dks izkIr djrh gSA 
vkt iz’kklu lH; thou dk j{kd ek= gh ugha gS oju~ og lkekftd U;k; rFkk ifjorZu dk Hkh egku lk/ku gSA vkt iz’kklu ,d uSfrd dk;Z gS vkSj iz’kkld ,d uSfrd vfHkdrkZ A iz’kklu ljdkj ds Lo:Ik ds lEca/k esa ^LVhy Qzse* dh Hkkafr gSA dq’ky iz’kklu ljdkj dk ,dek= og voyac gS ftldh vuqifLFkfr esa ’kklu {kr&fo{kr gkss tkrk gSA ,d vPNk ’kklu cgwr ls rRoksa ds la;kstu ls curk gS ]tSls& usr`Ro ]laxBu ] foRr] vkn’kZ fof/k;ka vkSj izfdz;k,a fdUrq fdlh Hkh nwljs rRo ls c<+k rRo gS & ^ekuo ’kfDr * A vkt iz’kklu izR;sd ukxfjd ds v/;;u ] fparu vkSj euu dk fo"k; gS ]Hkys gh og Nk= gks ;k etnwj ] fopkjd gks ;k deZpkjhA lHkh O;fDr mRre thou fcrkuk pkgrs gSA blesa iz’kklu cM+h egRoiw.kZ Hkwfedk fuHkkrk gS A
   gekjh ‘’kklu  iz.kkyh  es  ukSdj’kkgh  vR;f/kd ’kfDr’kkyh gSAtks ea=h; mRrjnkf;Ro rFkk v/khuk;dRo ds vkoj.k esa Qwyrh&Qyrh gS A ;g ^vfXu* dh rjg ,d lsod ds :Ik es rks cgwr mi;ksxh fl) gksrh gS ijarq tc og Lokeh ;k ekfyd cu tkrh gS ]rks ?kkrd fl) gksrh gS vkSj c<+dj QzasdsLVhu ds nkuo dh HkkWfr dHkh&dHkh rks ;g vius tUe nkrk dks gh fuxyrh gqbZ izrhr gksrh gS] vkSj Mj yxus yxrk gS fd jfp;rk dks gh u vkRelkr dj ysaA dgk tkrk gS lekt dY;k.k jkT; esa tura= ,d /kks[kk gS okLro esa ’kklu rks ukSdj’kkgh dk jgrk gSA lkS eas ls fuU;kuos ekeyksa esa ea=h yksd lsod dh jk; eku ysrk gS vkSj fu;r LFkku ij gLrk{kj dj nsrk gSA
Hkkjrh; lanHkZ  esa ukSdj’kkgh  jktuhfrd fopkj/kkjk ;k uhfr;ksa ds izfr izfrc)rk ds LFkku ij ns’k ds lafo/kku ,oa vius dRrZO;ksa   ds izfr ltx gksrh gSA ijarq O;kogkfjd rkSj ij HkkoukRed yxko dk vHkko iz’kklu dks ;fn ’kwU;oknh ugha rks vuqmoZj cuk nsuk vo’; gSA ;fn ofj"B yksd lsodks dk lewg jktuhfrd rVLFkrk dk vuqxeu djrk gS rks og uiqaldks dk ,d lewg cu tkrk gS dksbZ Hkh jktuhfrd dk;Zikfydk vius gks’kgok’k esa ,sls fdlh O;fDr dks dksbZ in ugha lkSaisxhA HkkoukRed yxko ls oafpr deZpkfj;ksa dh ljdkj ,sls MkDVjkas vksj ulkZs ds leku gS ftUgsa bl ckr dh fpark ugha gS fd muds jksxh ejrs gS ;k thrs gSA vkSj tks dsoy ;gha /;ku j[krs gS fd muds /ka/ks dh mfpr izfdz;kvksa dk vuqlj.k fd;k tkrk gSA vkt lHkh iz’kkld jktuhfrd gS D;ksafd os yksdfgr ds izfr mRrjnk;h gksrs gSA ;kstuk dk vPNk izk:Ik mldh lQyrk dh xkjaVh ugha gSA 
lQy dk;kZUo;u gh vc fu.kkZ;d Ik{k ekuk tkrk gSA ljdkjh vfHkys[k fo’ks"kKksa }kjk cukbZ xbZ lqanj ;kstukvksa ls Hkjs gS] yssfdu os lc dk;kZUo;u esa Mxexkrh izrhr gksrh gS vkSj dkxth cu dj jg xbZ gSA ge d`f"k Lrj ls vkS|ksfxd Lrj dh vksj c<+ jgs gSA iz’kklu esa lgkuqHkwfr ]osnuk] mnkjrk] fu"Ik{krk ds lkFk&lkFk ekuoh; Hkkouk, Hkh vo’; mifLFkr jguk pkfg,A iz’kkld dk izHkko’kkgh O;fDrRo gksuk pkfg,] yksxksa ds lkFk pyus dh ;ksX;rk gksuk pkfg,] usr`Ro ds xq.k gksus pkfg, vkSj vuqfpr nsjh ds fcuk dkQh izfr’kr Bhd fu.kZ; ysus dh ;ksX;rk gksuk pkfg, rFkk ljdkjh {ks= es jktuhfrKksa ds lkFk dke djus dh izo`fRr Hkh mlesa gksuk pkfg,A
                fod`fr ,oa ifjgkl ds dkj.k C;wjksdzslh ‘’kCn dk vFkZ xksyeky ] LoPNanrk ] viO;;] gLr{ksi ]oxhZdj.k ,oa ,d:irk fudkyk tkus yxkA ekuk fd ukSdj’kkgh es dqN ,sls yksx gksrs gS tks ân;ghu ] LokFkhZ vkSj rkuk’kkgh izo`fRr ds gksrs gS ijarq budh la[;k cgqr FkksM+h gksrh gSA ukSdj’kkgh dk vkdkj vc bruk cM+k gks x;k gS fd mldks dkslus dk vFkZ lekt vkSj iwjs jk"V~z dks dksluk gksxkA uhfr rFkk iz’kklu jktuhfr ds nks tqM+ok cPps gS tks ,dnwljs ls vyx ugha fd, tk ldrsA ukSdj’kkgh dh lHkh fo’ks"krk,a feydj laxBu dks mPpre  ek=k esa dq’kyrk izkIr djus esa l{ke cuk nsrh gSA lsok,a /khjs&/khjs ;g lkspuk can djs fd os ckdh turk ls vyx ,d Js"B xqV ds :Ik esa gSA ^^C;wjksdzslh bt ukbnj ghjks ukWj foysu^^ vkSj tuizfrfuf/k ,d dIrkuA iz’kkldh; deZpkjh dks u, lekt dk izsj.kk L=ksr gksuk pkfg, vkSj mls izR;sd Lrj ij lq>ko ] izksRlkgu ,oa ea=.kk nsus vkSj lekt dh mUufr dh ckr djuh pkfg,A
¼ ys[kd ,d ldkjkRed jktuhfrd fpUrd gSA½

http://indiatvnews.com/livetv/
                                

भ्रष्टाचार: व्यक्तिगत नैतिक संवेदनाएं एकमात्र अचूक हल


lkef;d eqn~nk % Hkz"Vkpkj

O;fDrxr uSfrd laosnuk,a ,dek= vpwd gy
  

Hkz"Vkpkj dh vkt ns’k es loZ= ppkZ gSA jk"V~z thou dk dksbZ ,slk {ks= ugha ] tgka Hkz"Vkpkj dk izos’k ughaA Hkz"Vkpkj mUewyu ds laca/k es laiw.kZ lekt fpafrr gSA jktuhfr vkSj iz’kklu nksuks gh Lrjksa ij Hkz"Vkpkj us xaHkhj :Ik /kkj.k dj fy;k gSA tu lk/kkj.k esa yksd ra= ds izfr fujk’kk dh Hkkouk ?kj djus yxh gSA ftls lq[kn ugha dgk tk ldrkA oksYdj fjiksVZ ij jktuhfrd nyksa esa vius vkidks rqyukRed uSfrd Bgjkus dh izfrLi/kkZ ds pyrs gh ] mtkxj gq, fj’or ysdj iz’u iwNus okys lkalnksa us iztkra= dks yfTtr djus esa dksbZ dlj ugha NksM+h vkSj ’kh?kz gh jgh&lgh deh gekjs tuizfrfuf/k;ksa us lkaln fuf/k esa deh’ku ysdj iwjh dj nhA 
D;k bl dFku esa ;FkkFkZ gS fd ]dyg vkSj }S"k Hkjh bl nqfu;k esa yksdra= lcls xSj ftEesnkjkuk ’kklu iz.kkyh gS \ fo’ks"k ;g blesa dksbZ nw/k dk /kqyk ugha fudykA yxHkx lHkh nyksa dk lj ’keZ ls >qddj iz’u fpºu yx x;kA Hkz"Vkpkj vkt Hkkjr gh ugha fo’o esa fpark dk fo"k; cuk gqvk gSA la;qDr jk"V~z la?k us Hkz"Vkpkj fujks/kd laf/k ij gLrk{kj vfHk;ku pyk j[kk gSA ftl ij yxHkx ,d lkS rhl ns’kksa us gLrk{kj Hkh dj fn, gSA ysfdu Hkkjr Hkfo"; es laf/k ds ’kfDr’kkyh ns’kksa ds fgrksa esa >qdus dh vk’kadk ds pyrs vHkh ’kkfey ugha gqvk gSA varjkZ"V~zh; ncko ds pyrs Hkkjr bl ij fopkj dj jgk gSA fpark dk fo"k; gS Hkkjr vkxkeh dqN gh o"kksZ esa Hkz"V ns’kkas dh Js.kh esa vxz.kh gksxkA
     fczfV’k fojklr esa feys Hkz"Vkpkj ds Lora=rk Ik’pkr u, vk;ke izdV gq,A /ku gh lc izdkj dh izfr"Bk dk vk/kkj gSA ;g lksp gh O;fDr dks Hkz"Vkpkj dh vksj mUeq[k dj jgh gSA tfVy rFkk foyacdkjh iz’kkldh; izfdz;k us bls ^ ’kh?kz dke djkus okyk /ku * cuk fn;kA vkS|ksfxd vkSj O;kikjh oxZ esa yksxksa dks Hkz"V djus dh ;ksX;rk ,oa bPNk Ik;kZIr ek=k esa ikbZ tkrh gSA ;g oxZ viuk dke fudyokus Lo.kZ&lqjk&lqanjh dk iz;ksx dk Hkz"Vkpkj ds uohu :Ik es dj jgk gSA bl vuSfrd vL= dks Xykscykbts’ku ds nkSj esa py jgs futhdj.k ds lkFk lekt eas gks jgas rhoz uSfrd cnyko rFkk HkkSfrd egRokdka{kkvksa us vkSj Hkh /kkjnkj cuk fn;k gSA jktuhfrd lRrk izkIr djus dh gksM+ us bl O;kf/k dks vfu;af=r izkd`frd bPNk ds QyLo#Ik ncs ikWo iljus okys ,M~l dh HkkWfr vlk/; cuk fn;k gSA ns’k esa dkys /ku dh lekukarj vFkZO;oLFkk py jgh gSA bl jk"Vz~h; dyad ls eqDr djkus dk ftUgsa nkf;Ro lkSaik x;k gS ] muds nkeu lkQ u gksus ds dkj.k dqN ugha gks ik jgk gSA
           Hkz"Vkpkj ds dkj.k vkt gekjk jk"V~zh;  pfj= lcls  uhps  ds fcanq dks Nw jgk gSA jk"V~zh; rFkk O;fDrxr pfj= nksuksa dh ekuksss ,d izdkj ls gR;k gks xbZ gSA Hkz"Vkpkj jfgr rFkk csnkx O;fDr;ksa ds vHkko esa jk"V~z fuekZ.k dk LoIu pdukpwj gks jgk gSA pfj= o uSfrdrk ds vHkko esa lkekftd rFkk lkaLd`frd <+kapk pjejk jgk gSA Hkz"Vkpkj lekt dk vfuok;Z vax cu pqdk gSA Hkz"Vkpkj ml eNyh dh rjg gS tks ikuh esa jgrs gq, ikuh rks ihrh gS iajrq fn[kkbZ ugha nsrkA bldk lewy mUeqyu laHko ugha gS] dsoy de gks ldrk gSA Hkz"Vkpkj ds fojks/k esa tcnZLr yksder mRiUu fd;k tkuk pkfg,A tcrd pquko lq/kkj ugha gksxs Hkz"Vkpkj pyrk jgsxkA tuizfrfuf/k;ksa ds fy, fuf’pr vkpkj lafgrk dk fuekZ.k vkSj mldk fdz;kUo;u fd;k tkuk pkfg,A vkSEcqMlesu laLFkkvksa dks lfdz; fd;k tkuk pkfg, A uSfrd ewY;ks dh f’k{kk dk izca/k gks A lkekftd laLFkk,a R;kx ds egRo ij tksj nsA R;kx ds }kjk Hkh izfr"Bk fey ldrh gS] dsoy /ku ds }kjk ugha A
    ;|fi Hkz"Vkpkj dk izHkko c<+k gS vkSj mlds nq"ifj.kke Hkh lkeus fn[kkbZ iM+ jgs gSA fQj Hkh cgqr vf/kd fujk’kk dh vko’;drk ugha gSA vkt Hkh ,sls yksx gS tks uSfrd ewY;ksa ds vk/kkj ij thou th jgs gS vkSj tks vkRek dh vkokt ds vk/kkj ij dk;Z djrs gSA ;s yksx nhi LraHk dk dk;Z djrs gSA budh la[;k c<+kus dh vko’;drk gSA dksbZ Hkh ljdkj MaMs ds cy ij Hkz"Vkpkj dks lekIr ugha dj ldrh gSA yksdra= dh izfdz;k dqN dfBu gksus ds lkFk&lkFk cgqr uktqd Hkh gSA gels gekjh viuh vfLerk vkSj igpku Nhuh tk jgh gSA ,sls  esa  gekjk yksdra= dgha ^tksdra= * u cudj jg tk,] ;g bu Hkksys&Hkkys iz’uksa ds ’kh?kz mRrj ij fuHkZj djrk gSA ;g Hkz"Vkpkj dk Hk;kog :Ik rcrd lekIr ugha gkss ldrk tcrd lekt esa Hkz"Vkpkj ds fo#) uSfrd laosnuk,a ugha tkxrhA ljdkjh tkap ,stsalh vkSj lkglh yksxksa ds iz;kl ?kus va/ksjs esa nhid dh rjg lhfer vkSj lkadsfrd izdk’k gh fc[ksj ldrs gSA   
    lw{e Fkhe vuwlkj Hkz"Vkpkj vkfn dky ls ekuo LoHkko esa ^O;kogkfjd cqjkbZ * ds :Ik es pyk vk jgk gSA Lora=rk ds izFke nkSj esa Hkz"Vkpkj vkt ls vf/kd jgk gSA ijarq tSls&tSls Hkz"Vkpkj ds rjhdks dh rqyuk eas tkap rFkk lwpuk ra= dh idM+ etcwr gksrh xbZ Hkz"Vkpkj esa fujarj deh vkrh jghaA lekt esa uSfrd :Ik ls lkglh yksxksa dh la[;k esa  gks jgh vk’kkrhr o`f) Hkh Hkz"Vkpkj dks mHkkjus esa lgk;d cu jgh gSA lapkj dzkafr ls mRiUu iSuh utj ls Hkz"Vkpkj cp ugha ik jgk gSA vkt Hkz"Vkpkj ds vf/kd ls vf/kd ekeys  lekt  ds mijh lrg  ij vkrs nsj ugha yx jgha A pkgs og fdrus gh cM+s O;fDr ls lacaf/kr D;ksa u gksA tu ekul dh c<+rh ekufld vk;q ds dkj.k vkuqikfrd :Ik ls Hkz"Vkpkj c<+us dk vkHkkl gks jgk gSA
     nks jk; ugha vkt ehfM;k viuh lfdz; Hkwfedk esa utj vk jgk gS] vkSj le;&le; ij lkglh dRkZO; dks vatke ns jgk gSA fj’or ysdj laln esa iz’u mBkus vkSj fQj lkaln fuf/k esa deh’ku ds ekeys dks ehfM;k us mtkxj djus dk iz’kaluh; lkgl fd;k gSA iztkra= es ’kklu ds bl pkSFks LraHk dh egrh Hkwfedk gS ftlds pfj= es fxjkoV gksrs gh vU; rhuksa voyac Hkh /kjk’kk;h gksrs nsj ugha yxsxhA ehfM;k dh fo’oluh;rk ds fo"k; esa yksxksa ds ekFks ij fpark dh ydhjsa lkQ eglwl dh tk jgh gSA lekt ehfM;k ls ,d lH; ]rRij ]lrZd ] rFkk laosnu’khy ^ okWp&MkWx* dh rjg dsoy HkkSaddj txkus dh vk’kk djus yxk gS] vkSj  dkVus dh vuqefr ugha nsuk pkgrkA dsoy ’kklu ds mPp Lrj ds eqn~nksa dks mtkxj dj izflf) gkfly djuk vkSj okf.kfT;d izfrLiZ/kk esa vkxs fudyuk ,dek= mn~ns’; ugha gksdj mls fo’ks"kdj futh {ks= ds dkWjiksjsV txr ds lkFk fupys Lrj ds o`gn {ks= dks Hkh LoPN cukus ds fy, jk"Vz~h; drZO; dk fuoZgu djuk gSA vU;Fkk ehfM;k dh uh;r lkQ gksus ij ‘’kadk gksuk tkfgj gSA 
fLVax vkWijs’kuksa esa vf/kdrj Bhys&Bkys lkekU; jktuhfrKksa dks fu’kkuk cukus ls dke ugha pyus okykA cfYd izHkko’kkyh jktuhfuKksa vkSj dkWjiksjsVjksa ds izfr Hkh lkgl fn[kkus dh vko’;drk gSA vU;Fkk ;g detksj lkgl dk izrhd cudj izHkkoghu gks tk,xkA ljdkjh {ks= ls dgha vf/kd Hkz"Vkpkj dkWjiksjsV txr eas gSA ftleas eqag can djus dh ;ksX;rk vis{kkd`r vf/kd gSA dgha ,slk ugha gks lkglh O;fDr ds lkgl dh tkap djus ds fy, vU; lkglh O;fDr dks lkgl fn[kkuk iM+s tks fd laHko ugha gSSA


laosnu’khy gksrs lkoZtfud thou dh fujarjrk rFkk xq.koRrk dks cuk, j[kus vkSj foeq[krk ls cpkus lekt dks O;kid ekufld lksp fodflr dj xaHkhj fo"k;ksa ij lrZdrk vkSj la;e ls dke ys rg rd igqapuk mfprdj gksxkA lkaln fj’or vkSj lkaln fuf/k esa deh’ku ekeys esa lHkh jktuhfrd nyksa us fcuk nsj fd, vius lkalnkas dks ikVhZ ls fuyafcr dj viuh bPNk ’kfDr dk ifjp; fn;kA yksdlHkk  v/;{k us vkgr gks rRdky lnL;ksa dks lnu esa vkus dk euk dj uSfrd ck/;rk yxkrs gq, ] lnu dh tkap lfefr cSBk yksdra= dh xfjek cuk, j[khA 
vkijs’ku nq;kZs/ku dh tkap ds fy, fu;qDr yksdlHkk dh caly lfefr us vkjksi lR; ik, tkus ij lkalnksa dks bLrhQk nsus ;k mUgas c[kkZLr djus dh flQkfj’k dh ] vkSj  fLVax vkijs’kuksa  dks ysdj  fofHkUu  ikfVZ;ksa  ds lkalnksa us ekax dh fd O;kolkf;d ykHk ds fy, lkalnksa dh Nfc ls [ksyus okyksa ;kfu dh ehfM;k ds f[kykQ Hkh dM+h dkjZokbZ gksuh pkfg,A Lihdj us lHkh Ik{kksa ij laKku ysus dh ckr dghA bl lnu ls cM+k dqN Hkh ugha gS] vkSj ge lHkh dks bldh xfjek cuk, j[kuh gSA ysfdu tgka geas [kqn esa lq/kkj dh t:jr gS geaaasss og Hkh djuk pkfg,A ladze.k ds nkSj ls xqtjrs iztkra= esa ;g rduhfd lans’k fey jgk gS fd O;oLFkk Lo;a rhoz xfr ls vius fy, lq/kkj dk volj miyC/k djk jktuhfrd fodkl ds fy, ifjiDork dk ekxZ iz’kLr dj jgh gS] vkSj yx jgk gS fd ns’k esa Hkz"Vkpkj ds fo#) Loeso okrkoj.k cu jgk gSA lq/kkj dk ;g volj  vc dy ij ugha Vyuk pkfg,A bl elys ij lHkh nyksa us nyh; lhekvksa ls Åij mBdj viuh ,dtqVrk vo’; fn[kkbZ gSA vk’kk gS ifj.kke dhA  
    ;g dguk le;ksfpr gksxk fd ^ tks idM+k x;k lks pksj ckfd lc lkgwdkj *A  Hkz"Vkpkj ekeys esa jktuhfrd nyksa ds ?kks"k.kk&Ik= vkSj  vkºoku pqukoh tqeys cudj jg x, gSA laxBukRed rFkk laLFkkxr Lrj ij Hkh Hkz"Vkpkj ls iwjh rjg yM+uk laHko utj ugha vk jgkA lekt esa O;fDrxr Lrj ij mRiUu uSfrd laosnuk gh Hkz"Vkpkj dk ,dek= vpwd gy gks ldrk gSA tkas Hkz"Vkpkj dks dkQh gn rd de dj ldrk gSA 

¼ ys[kd ,d ldkjkRed jktuhfrd fpUrd gSA½
                                      

Tuesday, 22 January 2013

राष्ट्र प्रेरणा के अमर स्त्रोत नेताजी सुभाष चन्द्र बोस

23 जनवरी
नेता जी सुभाष चन्द्र बोस जयंती पर विशेष
राष्ट्र प्रेरणा के अमर स्त्रोत नेताजी सुभाष चन्द्र बोस


नेता जी सुभाष चन्द्र बोस का जीवन आत्म-उत्सर्ग की एक कहानी है। जो निर्जीव और हतोत्साहित व्यक्तियों में स्फूर्ती और आशा का संचार कर सकती है। नेता जी ने देश के स्वाधीनता संग्राम में अपने जीवन को समग्र न्यौछावर कर दिया। सुभाष बाबू ने आई.सी.एस. परीक्षा में चौथे नम्बर पर आकर सभी को अचंभित कर दिया। लेकिन देश की राजनीतिक उथल-पुथल। और देश भक्ति की आंधी से प्रेरित हो सुभाष ने आई.सी.एस. की नौकरी छोड़ दी। प्रिंस आफ वेल्स के स्वागत के बहिष्कार के सम्बंध में सुभाष चन्द्र बोस को पहली बार गिरफ्तार करके 6 माह की सजा दी गई। सुभाष दो बार कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे। उस समय कांग्रेस के अध्यक्ष का पद सबसे बड़ा सम्मान था। जो भारतीय जनता अपने सर्व प्रिय नेता को दे सकती थीं। नामजद सदस्य पट्टाभि सितारमैया की पराजय पर स्वयं गांधी जी ने कहा था। वह उनकी हार है। गांधी जी से नेताजी का मतभेद नीति और साधन दोनों आधारों पर रहा। सुभाष चन्द्र बोस कांग्रेस की दक्षिण पंथी नीति से सदैव असंतुष्ट रहते थे। वह अपने संगठन को सदैव वामपंथी रखना चाहते थे। 
अंत में उन्होंने कांग्रेस को छोड़ दिया। और एक नवीन राजनीतिक दल फारवर्ड-ब्लाक की स्थापना की। वह उत्तर-पश्चिम सीमा-प्रांत और अफगानिस्तान के मार्ग से पहले रूस पहुंचे। उसके पश्चात जर्मनी। जहां हिटलर ने उनका स्वागत किया। वह मुसोलिनी से भी मिले। सुभाष चन्द्र बोस ने बर्लिन से ब्रिटेन के विरोध में प्रचार किया। जर्मनी द्वारा युद्ध में पकड़े गएं। भारतीय सैनिक बंदियों की एक प्रथक सेना संगठित की। जब जापान ने सिंगापुर को जीत लिया। तब सुभाष चन्द्र बोस ने दक्षिण-पूर्वी एशिया में भारतीयों की गतिविधियों के बारे में सुना। तभी वे वहां पहुंचे।
भारत के महान् क्रांतीकारी रास बिहारी बोस ने बैंकाक में भारत स्वतंत्रता लीग की स्थापना की। तिरंगे झण्डे को वहां लहराया। अपना लक्ष्य भारत की तुरंत और पूर्ण स्वतंत्रता रखा। सिंगापुर के पतन के पश्चात। अंग्रेजों ने 40 हजार भारतीय सैनिकों को जापान को सौंप दिया। जापान ने इन भारतीय सौनिकों कैप्टन मोहन सिंह को सौंप दिया। मोहन सिंह ने अपने थोड़े सैनिकों के साथ आजाद-हिन्द सेना का गठन किया। बाद में नागरिक भी इस सेना में सम्मिलित हुए। इस सेना के अधिकारी केवल भारतीय ही थें। निश्चय किया गया। यह सेना केवल भारत की स्वतंत्रता के लिए ही युद्ध करेंगी।
सुभाष चन्द्र बोस आजाद-हिन्द सेना के आमंत्रण पर जापान पहुंचे। जापान के प्रधान मंत्री टोजो ने उनका स्वागत किया। उसने सुभाष चन्द्र बोस को स्पष्ट किया। जापान भारत की स्वतंत्रता चाहता है। उसे अपने लिए कुछ नहीं चाहिए। परंतु युद्ध के समय में भारत जापान की अधीनता में रहेगा। सुभाष चन्द्र बोस ने उनकी इस बात को स्वीकार कर लिया। नेता जी ने अंग्रेजों के विरूद्ध। भारत की स्वतंत्रता के लिए। संघर्ष करने। अपना पहला संदेश। भारतीयों को टोकियो रेडियों से दिया। सुभाष चंद्र बोस के सिंगापुर पहुंचने पर। भारतीयों और भारत स्वतंत्रता लीग ने भव्य स्वागत किया। पूर्वी एशिया के भारत स्वतंत्रता संग्राम की बागडोर रास बिहारी बोस ने सुभाष चन्द्र बोस को सौंप दी।
सुभाष चन्द्र बोस को आजाद हिंद सेना का सेनापति बना दिया गया। उसी समय सुभाष चन्द्र बोस नेता जी पुकारे गए। नेता जी द्वारा आवाज लगाई गई। दिल्ली चलों। इस आवाज ने सिपाहियों पर जादू का असर किया। वह दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया। जब आजाद हिंद फौज की सेनाएं कोहिमा और मणिपुर के युद्ध में जुट गई। दो महीने में ही उनका आक्रमण उग्र हो गया। अंग्रेजी सेना को पीछे हटना पड़ा। सारे विश्व ने। सुभाष चन्द्रबोस की विलक्षण संगठन शक्ति का अनुभव किया। सुभाष ब्रिगेड, गांधी ब्रिगेड, नेहरू ब्रिगेड और आजाद ब्रिगेड में सेना का वितरण किया गया। कैप्टन लक्ष्मी सहगल की देखरेख में महिलाओं की अलग झांसी रानी रेजीमेंट थी। बच्चों की अलग टुकड़ी थी। बच्चों का यह दल अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुआ।
कुछ माह पश्चात उन्होंने सिंगापुर में स्वतंत्र भारत की एक अस्थाई सरकार की स्थापना की। इस सरकार ने मित्र राष्ट्रों से युद्ध की घोषणा कर दी। कुछ ही दिनों में स्वतंत्र भारत की इस अस्थायी सरकार को। जापान, जर्मनी, इटली, कोरिया, बर्मा, थाईलैंड, राष्ट्रीय चीन, फिलीपींस और मनचूरिया ने मान्यता प्रदान कर दी। राष्ट्रीय अभिवादन- जय हिंद। राष्ट्रीय मुहर और राष्ट्रीय चिन्ह- टीपू सुल्तान का शेर। राष्ट्रीय बैज, राष्ट्रीय गीत, शुभ, सुख चैन की बरसा। और न जाने कितनी राष्ट्रीय आवश्यकताओं की पूर्ती आजाद हिंद फौज में भारतीय रीति से की गई। साम्प्रदायिक एकता का जो आदर्श आजाद हिंद फौज ने उपस्थित किया। वह हमेशा स्मरणीय और अनुकरणीय है। जापान ने अंडमान-निकोबार द्बीप समूह को इस सरकार को सौंप दिया। आजाद हिंद सेना ने जापानियों के साथ मिलकर साहस से युद्ध में भाग लिया। असम में इम्फाल तक पहुंचने में सफलता प्राप्त की। परंतु उसके पश्चात उसे पीछे हटने के लिए बाध्य होना पड़ा। जापान को भी मित्र राष्ट्रों के सम्मुख आत्म समर्पण करना पड़ा।
कहा जाता है। सुभाष चन्द्र बोस कुछ जापानी अधिकारियों के साथ बैकांक से टोकियो जाने के लिए निकले। तभी उनके हवाई जहाज में आग लग गई। और सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु हो गई। दुनिया अवाक् रह गई। नेता जी युग-युग के लिए अमर हो गए। भारत की स्वतंत्रता के लिए किए गएं।
नेताजी के प्रयास विफल हुएं। फिर भी उनके प्रयासों ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में एक ऐतिहासिक भूमिका निभाई। आजाद हिंद फौज का नाम युगों तक अमर रहेंगा। पीठ पर सुरंगे बांधकर। जमीन पर लेटकर। ब्रिटिश टैंकों को उड़ाने वाले बाल सैनिकों। भूखे पेट या पत्तें खाकर छापा मारने वाले। गुलामी के घी से आजादी की घास को श्रेष्ठ समझने वाले सैनिकों। सोलह-सोलह घंटे तक युद्ध करके ब्रिटिश सेना के छक्के छुड़ा देने वाली रानी झांसी रेजीमेंट की महिला सैनिकों को युग-युग तक इतिहास में याद किया जायेगा। 
सुभाष चन्द्र बोस अभी तक भारत के एक राष्ट्रीय नेता स्वीकार किए जाते है। एक देश प्रेमी के रूप में भारतीय उन्हें हमेशा याद करते रहेंगे। आजाद-हिन्द फौज और उनके अधिकारियों के दिल्ली के लाल किले में हुए ऐतिहासिक मुकदमें ने सम्पूर्ण भारत में एक जन आन्दोलन को जन्म दिया। इस सेना के निर्माण से अंग्रेजों का विश्वास भारतीय सेना से उठ गया। इन सभी घटनाओं ने अंग्रेजों को भारत छोड़ देने के लिए प्रभावित किया।
( इदम राष्ट्राय स्वाह, इदम राष्ट्राय, इदम न मम् )

http://khabar.ibnlive.in.com/livestreaming/IBN7/            

Tuesday, 15 January 2013

महान् स्वप्नदृष्टा और कर्मदूत विवेकानन्द


12 जनवरी
राष्ट्रीय युवा दिवस, विवेकानन्द जयंती पर विशेष

बहुजन हिताय बहुजन सुखायमहापुरूष जन्म लेते हैं। उनका आविर्भाव समाज के हित के लिए होता है। वे समाज की रूढ़िवादी परंपरा का अनुसरण नहीं करते। अपितु वे समाज को बदल डालते हैं। विश्व वरेण्य वीर सन्यासी स्वामी विवेकानन्द ऐतिहासिक पुरूष थे। जिन्होंने आधुनिक भारत की नींव डाली।
विवेकानन्द हिन्दू धर्म और उसकी आध्यात्मिक भावना के प्रतीक थे। उनके उपदेश ने न केवल हिन्दू धर्म और समाज को शक्तिशाली बनाया। साथ ही भारतीय राष्ट्रीयता को भी मजबूत बनाया। उन्होंने हिंदू आध्यात्मवाद का पुनरूत्थान किया। ऐसा करते हुए इस्लाम और ईसाई धर्म पर हिंदू धर्म की श्रेष्ठता स्थापित की। उन्होंने हिंदू धर्म और समाज की दुर्बलताओं को भी स्पष्ट किया। उन्होंने हिंदूओं को बताया। यदि वे वेदांत के बताये मार्ग पर चले तो वे अपने धर्म की आत्मा को समझ जाएंगें। और पुन: एक गौरवपूर्ण राष्ट्र का निर्माण करने में सफल होंगे। विवेकानंद जी ने हिंदू आध्यात्मवाद का उपदेश पश्चिमी जगत को भी दिया। इससे यूरोप में हिंदू धर्म की श्रेष्ठता स्थापित हुई। इससे हिंदूओं में अपने धर्म और संस्कृति के प्रति विश्वास और आस्था जागृत हुई। इससे हिंदुत्व पुन: जागृत हो गया। इससे हिंदूत्व की उस दिशा में प्रगति संपन्न हुई जिसे बहन निवेदिता ने उग्र हिंदूत्व बताया।
विवेकानन्द धर्म को देवत्व मानते है। जो स्वत: ही मनुष्य में है। उनका उपदेश था। धर्म आत्म ज्ञान है। व्यक्ति को अपनी प्रकृति को अपने अधिकार में रखना चाहिए। वही निर्माण का मार्ग है। एक राष्ट्र की प्रगति का मापदंड उसकी आध्यात्मिक प्रगति भी है। इस कारण। उन्होंने प्रत्येक राष्ट्र और प्रत्येक व्यक्ति समूह को धर्म और आध्यात्म का पालन करने की सलाह दी। स्वामी विवेकानन्द व्यक्ति की भौतिक उन्नति में भी विश्वास करते थे। इस आधार पर वे पूर्व और पश्चिम में विचारों के आदान-प्रदान को आवश्यक मानते थे। उनका विश्वास था। भारत पश्चिमी संसार को आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान कर सकता है। भारत पश्चिम से भौतिक उन्नति के तरीके सींख सकता है।


स्वामी विवेकानन्द सभी धर्मों की समानता के सिद्धांत को स्वीकार करते थे। इस कारण। सभी धर्मों के अनुयायियों को सहनशीलता, समानता और सहयोग का उपदेश दिया। उन्होंने कहा। एक-दूसरे से लड़ों मत, बल्कि एक-दूसरे की सहायता करों।आपस में सामंजस्य स्थापित करों। विनाश नहीं। शांति रखों। उन्होंने कहा। विभिन्न धर्मों में अन्तर होना स्वाभाविक है। और आवश्यक भी। तुम सभी को समान विचार स्वीकार करने के लिए बाध्य नहीं कर सकते। यह सत्य है। मैं इसके लिए ईश्वर को धन्यवाद देता हूं। विचारों का अंतर और विचारों का संघर्ष ही नवीन विचारों को जन्म देता है।

उन्होंने धर्म का पालन करने के लिए। शिक्षा, स्त्रियों का उद्धार और गरीबी को समाप्त करना अत्यंत आवश्यक बताया। विवेकानंद जी ने मानव मात्र की सेवा करना प्रत्येक व्यक्ति के लिए सर्वश्रेष्ठ कार्य बताया। ईश्वर विभिन्न रूपों में तुम्हारें सामने है। जो ईश्वर के बच्चों को प्यार करता है। वह ईश्वर की सेवा करता है। ईश्वर की खोज में कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है। सभी निर्धन, अज्ञानी, अशिक्षित और असहाय व्यक्ति की सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म है। शिक्षित भारतीयों को उपदेश दिया। जब तक करोड़ों व्यक्ति भूखें और अशिक्षित हैं। तब तक मैं उस प्रत्येक व्यक्ति को देश द्रोही मानता हूं। जो उसके ही धन से पढ़कर उनकी ओर कोई ध्यान नहीं देता। मानव मात्र और समाज की सेवा करना स्वामी के उपदेशों का पहला उद्देश्य था। उनका विश्वास था। आध्यात्मिक प्रगति से मनुष्य को आत्मज्ञान होगा। और वह स्वत: ही समाज और राष्ट्रीय उत्थान में सहयोग देगा। वह मनुष्य को वास्तविक मानव बनाने में विश्वास करते थे। मनुष्य को सम्पूर्ण समाज और राष्ट्र की उन्नति का आधार मानते थे।
स्वामी विवेकानंद ने भारत की राष्ट्रीय भावना के निर्माण में भाग लिया। हिंदू धर्म और आध्यात्म की श्रेष्ठता स्थापित होने से।  हिंदूओं में आत्म विश्वास, आत्म गौरव और देश भक्ति जागृत हुई। जिसने राष्ट्र निर्माण में सहायता दी। विवेकानंद ने जो प्रार्थना करना हिंदूओं को बताया था। उसका सारांश था। हे गौरी पति, हे विश्व की माता, मुझे मनुष्यत्व प्रदान करों। ये शक्ति की मां। मेरी दुर्बलताओं को नष्ट करों। मेरी नपुंसकता को नष्ट करो। मुझे एक मनुष्य बनाओ। इस प्रकार विवेकानंद को आधुनिक भारतीय राष्ट्रीयता का पिता कहा जाता है। उन्होंने राष्ट्रीयता का निर्माण किया। उन्होंने राष्ट्रीयता के महान् तत्वों को अपने जीवन में शामिल किया। मात्र 39 वर्ष 5 माह की आयु में भारत के इस महान् स्वप्न दृष्टा और कर्मदूत ने चिर-समाधि प्राप्त की। इस अल्पकाल में ही विवेकानंद ने आधुनिक भारत की आधारशीला प्रतिष्ठित की।
विवेकानंद ने अपने देहांत से कुछ दिन पहले ही एक महत्वपूर्ण बात कही थी। यदि इस समय कोई दूसरा विवेकानंद होता। तो वह समझ सकता कि विवेकानंद ने क्या किया।
स्वामी विवेकानंद के उपदेशों और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद और अंत्योदय दर्शन में अदभूत तालमेल दिखाई देता है। स्वामी जी सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और सकारात्मक सेक्यूलरवाद अर्थात सर्व धर्म समभाव के पक्षधर थे। विवेकानंद भी एक ऐसे भारत के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध थे। जो सुदृढ़, समृद्ध स्वालंबी राष्ट्र हो। जिसका दृष्टिकोण आधुनिक, प्रगतिशील और प्रबुद्ध हो। और जो अपनी प्राचीन भारतीय संस्कृति और मूल्यों से सगर्व प्रेरणा ग्रहण करता हो। इस प्रकार एक महान विश्वशक्ति के रूप में उभरने में समर्थ हो। जो विश्व शांति और न्याययुक्त अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था स्थापित करने के लिए। विश्व के राष्ट्रों में अपनी प्रभावशाली भूमिका का निर्वहण कर सकें। स्वामी जी के उपदेश आज भी हमारे लिए एक ऐसे लोकतंत्रीय राज्य की स्थापना करने। जिसमें जाति, संप्रदाय और लिंग का भेद किए बिना। सभी नागरिकों को राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक न्याय, समान अवसर और धार्मिक विश्वास और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सुनिश्चित करने के लिए मार्गदर्शी है। विवेकानंद जी के उपदेश समाजवाद और पंथ निरपेक्षता के सिद्धांतों के प्रति सच्ची आस्था और निष्ठा और भारत की संप्रभुसत्ता, एकता और अखंडता को कायम रखने के लिए प्रेरक होंगे।
(इदम् राष्ट्राय स्वा:, इदम् राष्ट्राय, इदम् न मम्।)
http://aajtak.intoday.in/livetv.php